त्रिदेव

ब्रह्मा – मन ही करता है विचारों का सृजन । यहीं होता है इच्छाओं का आवागमन । ब्रह्मा का अस्त्र है, कल्पना शक्ति ।

विष्णु – मन ही संचालक है । यही करता है अच्छे और बुरे विचारों में अंतर व विभिन्न इच्छाओं को समानांतर । विष्णु का अस्त्र है, बुद्धि व विवेक ।

महेश – मन की पृष्ठभूमि में ही होता है दुर्विचारों का संहार और शुभ संकल्पों का प्रसार । महेश का अस्त्र है, ध्यान व योग ।

One thought on “त्रिदेव

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.