भेद मतभेद

यह नहीं है कोई भेद, की सत्य है केवल एक ।

सत्य तक पहुंचने के रास्ते हों भले अनेक, मंज़िल तो रहती है सिर्फ एक।

यह तो है सिर्फ सोच का फ़ेर, जिससे हो जाती है सत्य को समझने में देर ।

धीरे-धीरे या फ़िर जल्दी जल्दी, जब तक हो रहा है सवेरा, तब तक नहीं है कोई खेद।

2 thoughts on “भेद मतभेद

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.