जल धारा जीवन हमारा

जल, कभी सागर, तो कभी बादल। कभी झरना, कभी टिप – टिप बरसना।

जल की प्रवृत्ति ही है स्वीकृति, जैसी प्रकृति वैसी आकृति ।

मनुष्य का तन जल तत्व से ही अधिकतम बना खड़ा है, परन्तु मन पूर्व निर्धारित धारणाओं के पहाड़ों सा अड़ा है ।

क्यों न मन भी तन सा बना लें, और तन और मन दोनों में सामंजस्य बैठा दें।

जैसे जल का बहाव है उन्मुक्त, वैसे ही मन को भी कर दें चिंताओं, आशंकाओं से मुक्त ।

ज्यों ज्यों जल परिवर्तित करता है प्रकृति के अनुसार अपने आकार, त्यों त्यों समय और काल के अंतर्गत हम भी अपनाएं नए विचार और यह जीवन करें साकार ।

कभी छांव है तो कभी धूप, प्रकृति और जीवन के भी हैं अनेको रूप । बस चलते रहें , ढलते रहें, और बहते रहें इसके अनुरूप ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.