खुशी की कुंजी

जो गुज़र गया वह है फसाना पुराना,

जो आएगा वह है किस्सा अनदेखा अनजाना,

जो आज है अभी है, वही है अपना जाना पहचाना ।

यह बात तो सब जानते हैं,

लेकिन कितने इसे मानते हैं ?

आज इस सत्य को स्वीकारते हैं, और इसी क्षण से, पूरी निष्ठा से इसे अपने जीवन में उतारते हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.