ख़ामोशी

ख़ामोशी ज़ुबान होती है, जब प्रार्थना सच्चि होती है, लफ्ज़ों की न अब कोई भी ज़रूरत होती है, क्योंकि, बोल हैं सीप और प्रार्थना एक बेदाग मोती होती है।

ख़ामोशी खुद बोलती है, दर्द के राज़ खोलती है, अल्फाज़ों के बोझ अब न वह ओढ़ती है, प्रार्थना तो एक एहसास है, शब्दों को वह कहाँ तोलती है ।

3 thoughts on “ख़ामोशी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.